क्या लडकियों की वर्जिनिटी फिर वापस आ सकती है ?

क्या लड़कियां की वजिनिटी फिर वापस आ सकती है

आज के समय में शादी से पूर्व लड़किया चिंतित हो जाती है क्यों कि भारतीय समाज में आज भी लडकियों की वजिनिटी को लेकर बहुत सरे मिथ्या तथ्य है और ऐसा माना जाता है कि लडकियों की विर्जिनिटी का सीधा सम्बन्ध उनके चरित्र से है |

आज भी हमारे समाज में पहली बार सेक्स को लेकर बहुत उत्सुकता रहती है तो क्या से सच है आजकल लड़कियां इससे बचने के लिए मानवकृत तरीको का प्रयोग करके अपनी विर्गिनिटी को वापस पा सकती है आइये जानते है इसके बारे में पूरे विस्तार से |

बहुत से देशों में वैज्ञानिक ज्ञान के आभाव में ऐसा माना जाता है यदि विवाह के पश्चात पति द्वारा प्रथम रात्रि को संभोग करने पर पत्नी की योनि से योनिच्छद फटने के कारण रक्तस्राव नहीं होता है तो पत्नी वर्जिन नहीं है। यह परिवार और समाज द्वारा किया जाने वाला एक प्रकार का वर्जिनिटी परीक्षण है जो वैज्ञानिक तौर पर सही नहीं है।

 

इसका कारण यह है कि पूर्व में जब बाल विवाह होते थे तो पत्नी की आयु बहुत कम होने के कारण उसके योनिच्छद के मौजूद रहने और पति द्वारा पहली बार संभोग करने पर योनिच्छद के फटने से रक्तस्राव इत्यादि होने की बहुत अधिक संभावना रहती थी किन्तु वर्तमान में जब लड़कियों का विवाह 27–28 या उससे भी अधिक आयु में हो रहा है विवाह अधिक आयु में होने के कारण अधिकतर लड़कियाँ, विशेषकर वे जो उच्च अध्ययन हेतु अथवा नौकरी करने हेतु घर से बाहर जाकर हॉस्टल, पेइंग गेस्ट सुविधा या किराये के मकान में रहती हैं, नैसर्गिक व मानवीय कामभावना को नियंत्रित करने के लिये हस्तमैथुन इत्यादि क्रियायें प्रारंभ कर देती हैं जिसके कारण भी लडकियों की वर्जिनिटी खत्म  हो जाती है।

क्या तरीका है लडकियों की वर्जिनिटी वापस लाने का ?

वर्तमान में कुछ लड़कियाँ विवाह के कुछ समय पूर्व हिम्नोप्लास्टी (hymenoplasty) नामक प्रक्रिया से योनिच्छद की पुनर्स्थापना करवा लेती हैं । यानी लड़कियां शादी के कुछ दिन पहले अपनी विर्जिनिटी वापस पाने के लिए एस प्रक्रिया को करवाती है ताकि शादी के बाद उसके चरित्र पर कोई सवाल न उठा सके |

लडकियों की विर्जिनिटी

इस प्रक्रिया से यद्यपि योनिच्छद पुनर्स्थापित हो जाती है किन्तु यह नहीं कहा जा सकता है इससे वर्जिनिटी वापस आ गई।

वर्जिन उस व्यक्ति को कहा जाता है जिसने कभी भी यौन संबंध स्थापित नहीं किया है।यदि किसी ने एक बार यौनक्रिया कर ली तो फिर वह वर्जिन नहीं रह जाता है क्योंकि उसके द्वारा की जा चुकी यौनक्रिया को पुन: प्राप्त नहीं किया जा सकता है।

मेरी समझ से वर्जिनिटी की अवधारणा ही गलत है।जिस प्रकार मानव शरीर में आँख, कान, नाक, मुँह इत्यादि जैसे तमाम अंग होते हैं, उसी प्रकार स्त्रियों में योनि और पुरुषों में शिश्न होता है। अत: किसी अंग विशेष के प्रयोग के संबंध में अनावश्यक रूप से अत्यधिक संवेदनशील होना अव्यवहारिक तथा अनावश्यक प्रतीत होता है।

समाज में कभी भी पुरुषों के बारे में यह प्रश्न नहीं उठाया जाता है कि उसने पूर्व में यौनक्रिया की है अथवा नहीं अर्थात वह वर्जिन है अथवा वहाँ। यहाँ यह बात नहीं भूलना चाहिये कि पूर्व में जब आज के जैसे प्रभावी गर्भनिरोधक उपलब्ध नहीं थे तो स्त्रियों द्वारा यौनक्रिया करने से उन्हें गर्भवती हो जाने का डर रहता था जो बात पुरुषों के संबंध में लागू नहीं होती थी। संभवत: इसी कारण से स्त्रियों और पुरुषों द्वारा यौनक्रिया करने को अलग-अलग दृष्टि से देखा जाता था।

किन्तु यह बात स्पष्ट है कि एक बार वर्जिनिटी चली जाने पर वह वापस नहीं पाई जा सकती

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *